लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है : ladki pregnant kab ho sakti hai

क्या आप जिम्मेदार लड़की के माता – पिता है, तो उसे सामाजिक कुरीतियों से बचाना आपका दायित्व है। जिसके लिए न उसे संस्कार बल्कि यौन शिक्षा देना भी अनिवार्य है। ताकि आपकी लाड़ली बिटिया को पता हो कि लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है? 

लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है 

 

बैरहल आज भी हमारे परिवारों में, लड़का और लड़की में भेद किया जाता है। लेकिन माताए प्रायः अपनी संतानों में अंतर नहीं रखती, भले उनके पति मन ही मन क्यों न रखते हो। लेकिन आज की महगाई और जरूरतों के हिसाब से, ज्यादातर लोग एक – दो संतान ही चाहते है। जिससे लड़कियों को भी, आजकल लड़कों के बराबर ही समझा जाता है। 

इस कारण उनके सामने परिवार नियोजन के अलावा और कोई विकल्प नहीं होता। जबकि महिला प्रेग्नेंट कब नहीं होती है, को जानकार काफी हद तक इससे बचा जा सकता है। लेकिन बहुत से लोग प्रेगनेंसी का रिस्क नहीं लेना चाहते। 

परन्तु आमतौर पर माता – पिता बनने की राह, जितनी रोमांचक होती है उतनी ही डरावनी भी। विशेषकर तब जब हम किसी लड़की के माँ – बाप बनते है। ऐसा होने पर एक ओर इनके परवरिस तो दूसरी ओर, इनके विवाह की सामाजिक जिम्मेदारी होती है।

जिसके निर्वाह में लड़की के माता – पिता दिन रात लगे रहते है। किन्तु कभी – कभी भावावेश वश लड़कियों से गलत कदम भी उठ जाते है। जिसका कारण कही – कही यौन शिक्षा का अभाव है। भारतीय समाज में पुरुष पहिया तो महिला उसकी धुरी मानी गई है। जिसके बिना न हमारा अस्तित्व सुरक्षित रह सकता है न हमारा आदर्श। 

आखिर लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है ( ladki pregnant kab ho sakti hai )

लड़कियां प्रेग्नेंट कब होती है

आजकल लड़को की तरह लड़कियां भी, पढाई – लिखाई में लड़को से पीछे नहीं है। जिसके लिए उन्हें घर से बाहर जाना पड़ता है। लेकिन कुछ लड़कियों को जिले, प्रदेश और देश से भी बाहर जाना पड़ सकता है। जिससे इनकी दोस्ती लड़को से भी हो जाया करती है। 

जो एक ही देश अथवा प्रदेश और जिले के होने के कारण, स्वाभिक रूप से देखी जाती है। जिसमे संबंध बनने से लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है? क्योकि किशोरिया अक्सर अपनी भावनाओं पर नियंत्रण नहीं रख पाती। जिसके कारण उन्हें नहीं पता चल पाता, कि लड़की प्रेग्नेंट कब हो सकती है कब नहीं?

क्योकि आमतौर पर लडकियां प्रेगनेंसी के, उठा – पटक से अपरिचित होती है। जिससे उन्हें यह नहीं पता होता कि पीरियड के कितने दिन पहले प्रेग्नेंट हो सकते है। इसके साथ उन्हें यह भी नहीं पता होता कि प्रेगनेंसी से बचने के लिए, पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए।

प्रेगनेंसी से बचने के लिए संबंध बनाने से बचना ही पर्याप्त नही। बल्कि पुरुष के स्पर्म को पहुंचने से रोकना होता है। लेकिन लडकियां बेचारी इन बातों से प्रायः अनजान होती है। जिसके कारण कभी – कभी लड़कियां सम्बन्ध न बनाने के बावजूद भी प्रेग्नेंट हो जाया करती है।  

आमतौर पर प्रायः स्वभाव वस लड़कियां संबंध बनाने से बचती है। लेकिन लडकियां विशवास और सम्मान के आगे भावुक हो जाती है। यह लड़कियों और महिलाओं की सबसे बड़ी कमजोरी है। जिसके कारण संबंध बंनाने से लड़कियों को पीरियड में प्रेगनेंसी हो सकती है। 

चिकित्सीय दृष्टि से लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है?

चिकित्सीय भाषा में महिलाओं का ओवुलेशन के समय, गर्भ धारण करने के लिए सबसे अधिक उपयोगी होता है। जो पीरियड खत्म होने के लगभग एक हफ्ते बाद, कुछ दिन के लिए ही होता है। जिसमे सम्बन्ध बनने पर, महिला या लड़की के गर्भवती होने की संभावना सबसे अधिक पायी जाती है।  

इसलिए कहा जा सकता है कि ओव्यूलेशन के दौरान सम्बन्ध बनाने से लड़किया प्रेग्नेंट हो सकती है। लेकिन अधिकांश लड़कियों को प्रेगनेंसी सम्बन्धी यह जानकारी नहीं होती। जिससे लड़कियां प्रेग्नेंट कब होती है। उन्हें मालूम नहीं चल पाता। 

इतना ही नहीं यदि किसी कारण इस समय लड़कियों की वैजाइना तक, स्पर्म की पहुंच हो गई तो भी लड़कियां प्रेग्नेंट हो जाती है। फिर चाहे उनका पीरियड ही क्यों न चल रहा हो, क्योकि पीरियड में प्रेगनेंसी हो सकती है

हालाकिं पीरियड में संबंध बनाने के नुकसान है। फिर भी इस समय उनके बच्चेदानी का मुँह खुला रहता है। जिसके कारण लड़कियों में प्रेग्नेंट होने की संभावना पाई जाती है। चिकित्सानुसार निम्नलिखित कारणों के पाए जाने पर भी लड़कियां प्रेग्नेंट हो सकती है –

  • असुरक्षा के साथ पीरियड के दौरान संबंध बनाने से
  • पीरियड के बाद असुरक्षित यौन संबंध बनाये जाने पर
  • असुरक्षित गुदा मैथुन करने के दौरान वैजाइना में स्पर्म के चले जाने से
  • माहवारी से लेकर 16 दिन पर्यन्त महिला जननांगों में हाथ लगाने से, यदि पहले पुरुष जननांग का स्पर्श किया गया हो।  

लड़कियां प्रेग्नेंट कब नहीं हो सकती है ( ladki kab pregnant nahi ho sakti hai )

लड़की कब प्रेग्नेंट हो सकती है

आमतौर पर जब तक लड़कियां शारीरिक संबंध नहीं बनाती, तब तक उनके प्रेग्नेंट होने की कोई संभावना नहीं पायी जाती। जिससे बचने के लिए सुरक्षित यौन संबंध का सहारा लिया जाता है। जिसको आमतौर पर गर्भ धारण रोकने के उपाय कहा जाता है। जिनको अपनाने के बाद लडकियां प्रेग्नेंट नहीं होती।

परन्तु पापाचार, दुराचार और अनाचार को समाप्त करने के लिए, मातृशक्ति का शील सुरक्षित रहना आवश्यक है। इसलिए हर समझदार लड़की का यह दायित्व है कि वह अपने शील की रक्षा स्वयं करे। जिसके लिए वह सभी प्रकार के प्रलोभन से स्वयं को दूर रखे।

जागरूकता लाने के लिए लड़कियां प्रेग्नेंट कब नहीं हो सकती है, को बताने के साथ – साथ उनके मस्तिष्क में निषिद्धाचरण से बचने की कला भी सिखाना चाहिए। जिससे महिलाए भी देश भक्ति में अपना योगदान दे सके। 

महिलाओं के लिए यह बड़ी राष्ट्र सेवा है। जो महिला आजीवन अपने शील की रक्षा करती है। उसे ही धर्म शास्त्रों में पतिव्रता स्त्री कहा गया है। जिसका पूर्ण समर्थन आयुर्वेद में किया गया है।   

उपसंहार :

अमूमन अविवाहित किशोरियों और युवतियों को लोग लड़कियां कहते है। जो लगभग 10 वर्ष से अधिक की आयु होती है। जिनमे प्रायः मासिक धर्म आना शुरू हो जाता है। यह उनके गर्भाशय के परिपक्व होने का संकेत है। इसलिए लड़कियों में पीरियड आने की शुरुआत होते ही, प्रेगनेंसी के आसार बनने लगते है।

जिसमे लड़को से शारीरिक सम्बन्ध बनने से, लड़कियां प्रेग्नेंट हो सकती है। क्योकि इस समय लड़कियों के बच्चेदानी का मुँह खुला रहता है। जिसके कारण गर्भ के ठहरने की संभावना पाई जाती है। जो कोई भी अविवाहित लड़की नहीं चाहती। क्योकि भारतीय समाज में लड़कियों का प्रेग्नेंट होना, अच्छा नहीं माना जाता। इसलिए इस तरह के अनैतिक आचरण से बचने के लिए, लड़के या पुरुष मित्र से संबंध रखे लेकिन शारीरिक संबंध नहीं। 

जब बात आती है लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है? तो जब तक उनके योनि तक पुरुष शुक्राणुओ की पहुंच नहीं होती। तब तक लड़किया या महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं हो सकती। इस लेख का एकमात्र उद्देश्य अनैतिक अनाचार से समाज को बचाना है। जिससे लोगो का आचरण शुद्ध एवं महिलाओं की शील सुरक्षित रहे। जिससे देश अनावश्यक कुरीतियों का शिकार होने से बचा रहे।   

सन्दर्भ :

भाव प्रकाश – गर्भ प्रकरण 

FAQ

लड़कियों के प्रेग्नेंट होने के सबसे ज्यादा चांस कब होता है?

लड़कियों में जब से माहवारी शुरू हो जाती है। तभी से उनके गर्भवती होने की आशंका पाई जाने लगती है।  

लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे होती हैं?

आमतौर पर सम्बन्ध बनने पर ही महिलाओं की तरह, लड़किया भी प्रेग्नेंट होती है। किन्तु माहवारी के बीच में, इनके गर्भधारण करने की संभावना सबसे अधिक पायी जाती है। 

क्या किस करने से लड़की प्रेग्नेंट होती है?

नहीं, जब तक महिला के गर्भाशय में स्पर्म नहीं प्रवेश करते। तब तक कोई भी महिला या लड़की प्रेग्नेंट नहीं होती। 

2 thoughts on “लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है : ladki pregnant kab ho sakti hai”

Leave a Comment