विवाहित लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है : ladki pregnant kaise ho sakti hai

जिन लड़कियों की अभी – अभी शादी हुई है। वो अपने पुरुष साथी के साथ रोमांचक अंदाज में होती है। जिससे लडकियां न केवल मानसिक रूप से भावुक है, बल्कि अधिक बार शारीरिक सम्बन्ध भी बनाया करती है। परन्तु कोई बच्चा नहीं चाहती, लेकिन सम्भोग छोड़ नहीं सकती। इसलिए उनके मन में एक बात बार – बार उठती है कि लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है?

लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है

ऐसा अक्सर इसलिए होता है कि वह समय का लुत्फ उठाना चाहती है। जो जीवन में एक बार बीत जाने के बाद, फिर कभी नहीं आता। जोकि रिश्तो को मजबूती देने के आवश्यक भी है। लेकिन कुछ समय बीतते ही उनके मन में दबी मां बनने की आस जाग उठती है। जिसके लिए वो अपनी और से प्रयास भी करती है। जिसमे असफल होने पर उनके दिमाग में एक ही बात आती है कि आखिर लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है?

पहली बार माँ बनने जा रही महिला के लिए, प्रेगनेंसी डरावनी और अचम्भों से भरी हो सकती है। इसलिए हर महिला के लिए यह क्षण भावुक होता है, क्योकि उन्हें नहीं पता होता कि महिला प्रेग्नेंट कब नहीं होती है। जिससे वो अपने को प्रेग्नेंट मानकर चलती है। 

शादी के बाद प्रेग्नेंट होना वास्तव में अपने प्यार का इजहार करना है। जिसका सपना हर लड़की अपने मन में संजोये होती है। जिसके लिए वह भरसक प्रयास करती है, अर्थात नियमित रूप से लगातार सम्बन्ध बनाती है। फिर भी कभी – कभी गर्भ नहीं रुकता क्योकि उसे नहीं मालूम होता कि पीरियड के कितने दिन पहले प्रेग्नेंट हो सकते है?

जिससे वह भावनाओं पर नियंत्रण न रख पाने से, निरास और हतास हो जाती है। जिससे उसके मन में तरह – तरह के भ्रम पलने लगते है। जिससे प्रेगनेंसी को लेकर लड़कियों की चिंता बढ़ती ही जाती है। इसलिए इन मिथको करना आवश्यक है। 

महिला प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है ( mahila pregnant kaise ho sakti hai )?

आमतौर पर विवाह के बाद लड़कियों को महिला कहा जाने लगता है। जिससे इन्हे एक ओर अपने पति के प्रेम का इजहार करना होता है, तो दूसरी ओर अपने कुल – खानदान के अनुकूल संरक्षक – संरक्षिकाओं को देने की जिम्मेदारी होती है।

इसलिए भारतीय समाज में महिला के गर्भवती होने से, न केवल महिला का सम्मान बढ़ता है बल्कि कुल – कुटुंब का मान बना रहता है। जो नव विवाहित किशोरियों के हाथ में होता है। जिसके लिए लड़कियां प्रेग्नेंट कब हो सकती है को जानना आवश्यक है। 

सामान्य रूप से महिला के प्रेग्नेंट होने के लिए, मासिक धरम के बीच के समय को अच्छा माना जाता है। यह महिलाओं के गर्भ धारण करने का सबसे सुरक्षित अनुकूल दिन होता है। जिसमे यदि महिला अपने पति से सम्भोग करे, तो उसके गर्भ ठहरने की सम्भवना सबसे अधिक होती है। लेकिन अक्सर लोग पीरियड में सम्बन्ध बनाते है क्योकि पीरियड में प्रेगनेंसी हो सकती है?

लेकिन यह बहुत ही कम दिनों के लिए ही होता है। जो पीरियड ख़त्म होने के लगभग एक सप्ताह बाद सेशुरू होकर, पीरियड आने के लगभग दो हफ्ते पहले होता है। हालाकिं हर महिला में माहवारी अलग – लग दिन की पायी जाती है। जिससे इसकी पहचान करना कठिन होता है।

अक्सर लड़कियां गर्भवती होने के लिए इस दिन सबसे उपजाऊ होती है। जिस बीत जाने पर अक्सर गर्भ रुकने की सम्भवना नहीं रह जाती। जिसको लड़किया क्या गर्भवती महिला ( garbhvati mahila ) भी नहीं जान पाती। जिससे नव विवाहित किशोरियों के मन में लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है की बात बनी रहती है। 

आखिर युवा लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है

आमतौर पर कम उम्र वाली युवतियों को भी लड़कियां कहा जाता है। जिसका कारण उनकी नई – नई शादी हुई रहती है। जो आजकल लड़कियों की शादी की उम्र कही जाती है।  जो लगभग 20 – 22 साल के आस पास होती है। लेकिन इन नव विवाहिताओं को कुछ वर्ष बाद, अपना परिवार बढ़ाना होता है। जिससे इनके मन में लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है को लेकर संशय बना रहता है।    

नव विवाहित किशोरियों और महिलाओं में गर्भ ठहरने की प्रक्रिया एक जैसी ही है। जिसमे बच्चेदानी का मुँह कब खुला रहता है, तब तक इनके प्रेग्नेंट होने की सम्भवना बनी रहती है। जिसके कारण कुछ लोग पीरियड में भी सम्बन्ध बनाया करते है। लेकिन आयुर्वेद चिकित्सा में पीरियड में संबंध बनाने के नुकसान बतलाये गए है। जो बहुत ही विघातक और दुष्परिणामकारी है। 

महिलाओं की बच्चेदानी यानी गर्भाशय का मुँह, मासिक धर्म के शुरू होते ही खुल जाता है। लेकिन महिला को गर्भ धारण करने के लिए, उसके अंडाशय से निकलने वाले अंडो का फर्टिलाइज्ड होना जरूरी है। जो केवल तभी हो सकता है जब महिला अण्डोत्सर्ग कर रही हो तब संबंध बनाया जाए। जिससे महिला गर्भाशय में आया हुआ अंडा शुक्र से मिलकर निषेचित हो सके। ऐसा होने पर ही महिला गर्भ धारण करती है, अन्यथा नहीं करती।     

किन्तु आम धारणा यह है कि महिलाए सम्बन्ध बनाने पर ही, गर्भ धारण करती है। जबकि युवा लडकियां प्रेगनेंसी के सिद्धांत से परिचित नही होती। जिससे उनसे कुछ ऐसी चेष्टाएँ अनजाने में हो जाती है। जिससे लड़कियां प्रेग्नेंट हो सकती है। क्योकि तकनीकी रूप से महिला को गर्भ धारण करने के लिए, पुरुष शुक्राणुओ की आवश्यकता पड़ती है। न कि सम्बन्ध की। लेकिन सच तो यह भी है कि बिना सम्भोग के पुरुष शुक्र का जनन नहीं होता। 

युवा लड़कियों के गर्भवती होने की संभावनाए 

परन्तु वास्तव में महिला गर्भ धारण तब करती है, जब महिला की योनी से शुक्र लड़कियों के गर्भाशय में पहुँचता है। जिसके लिए महिला और उसके साथी का एक साथ स्खलन होना, गर्भ धारण के लिए परम उपयोगी है। क्योकि जब पुरुष स्खलित होता है तो उसके शिश्न से वीर्य निकलता है। और जब महिला स्खलित होती है तब उसकी योनी पुरुष वीर्य को खींचकर गर्भाशय में पहुंचा देती है। जिससे वीर्य क्षरित हुए बिना फैलोपियन ट्यूब से निकलने वाले अण्डों से मिलकर निषेचित हो जाते है।

किन्तु कभी – कभी नव विवाहिताओं में कुछ चेष्टाएँ ऐसी भी हो जाती है। जिससे लडकियां गर्भवती हो सकती है। इसलिए किसी भी कारण स्पर्म की पहुंच महिला गर्भाशय तक होने पर, लड़कियां प्रेग्नेंट हो सकती है। जैसे –

  • पीरियड के दौरान सम्बन्ध बनाने से
  • पीरियड के बाद नियमित सम्बन्ध बनाये रखने से
  • असुरक्षित लगातार और नियमित संबंध बनाते रहने पर
  • कभी – कभी सुरक्षा के उपाय के बाद भी लड़कियां गर्भवती हो सकती है। जैसे – महिला द्वारा पुरुष जननांगों को छूने के बाद जब अपनी वैजाइना को छूती है।
  • महिला द्वारा पुरुष लिंग पर फोरप्ले करने के बाद, महिला जब पुरुष के लिंग पर कंडोम लगाती है।
  • असावधानी पूर्वक कंडोम लगाने से 
  • सेक्स के दौरान कंडोम के फटने से
  • स्पर्म लगे सेक्स टोवॉय को वैजाइना पर लगाने से 
  • पुरुष के द्वारा अपने लिंग को उत्तेजित करने के पश्चात, वैजाइना पर फोर प्ले करने से
  • गुदा मैथुन के दौरान स्पर्म के वैजाइना तक पहुंचने, आदि से।    

उपसंहार :

किशोरियों को प्रेगनेंसी को लेकर बहुत चिंतित होने वाली बात नहीं। क्योकि उनकी उम्र बहुत अधिक नहीं होती। जैसी महिलाओं में प्रायः देखी जाती है, क्योकि आमतौर पर महिलाए देर से शादी करती है। जिसके कारण इनकी रजोनिवृत्ति का समय निकट होता है। जिससे इनको शादी के कुछ ही महीनों में प्रेग्नेंट होने की सलाह दी जाती है। 

जबकि लडकियां प्रेगनेंसी को लेकर भावुक अधिक होती है। जिससे यह जिस पर विशवास करती है। उनकी बताई बातों में आसानी से आ जाती है। जिससे अपने अंदर लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है को लेकर, अनेकों प्रकार का भ्रम पालकर बैठ जाती है। लेकिन यदि उन्हें उनके उपजाऊ समय ( ओवुलेशन ) का ठीक से ज्ञान हो, तो वे कम समय में सुगमता पूर्वक गर्भधारण कर सकती है। 

कही बार लड़कियां जब गर्भ धारण नहीं कर पाती। जिसका सबसे बड़ा कारण सही समय पर सम्बन्ध न बनाना है। परन्तु सही जानकारी के अभाव में बहुत से भ्रम पलने लगते है। जिसको दूर करने के लिए कोरी कल्पनाओं को मिटाना आवश्यक है। जो वास्तव में भ्रम के सिवा कुछ भी नही है। 

ऐसा होने पर नव युवतियों को सामाजिक दबाव का डर सताने लगता है। जिससे उनके अंदर तनाव पलने लगता है। जो महिला को गर्भ धारण करने में रुकावट पैदा कर सकता है। इसलिए महिला प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है के, भ्रम – प्रमाद को शीघ्र दूर करने का उचित प्रयास करना चाहिए। 

ध्यान रहे : ऊपर हमने नव विवाहित किशोरियों के लिए लडकियां शब्द का प्रयोग किया है। 

सन्दर्भ :

भाव प्रकाश – गर्भ प्रकरण 

FAQ

यदि किसी लड़की की माहवारी अभी शुरू नहीं हुई हो तो प्रेगनेंट हो सकती है।

हाँ, महिलाओं के गर्भवती होने का समय पीरियड के मध्य में होता है। जिस समय वो सबसे अधिक उपजाऊ होती है। इसलिए जब तक पीरियड नहीं आ जाता, तब तक यह सुनिश्चित नहीं किया जा सकता कि किस समय महिला प्रेग्नेंट हो सकती है। 

यदि लड़की का पीरियड स्थगित पोस्टपोंड हो गया है तो प्रेगनेंसी हो सकती है?

हाँ, पीरियड न आना ही प्रेग्नेंट होने का लक्षण है। लेकिन ऐसा अक्सर लड़कियों को पीसीओडी जैसी समस्याओं में भी देखा जाता है।  

यदि लड़की का पीरियड कई महीनों से रुका हुआ है तो उसके प्रेग्नेंट होने की संभावना है?

हाँ, अक्सर गर्भ ठहरने पर महिलाओं को पीरियड्स नहीं आते।  लेकिन मासिक अनियमितता होने पर, महीनो माहवारी न होना भी पाया जाता है। जिसका निर्धारण प्रेगनेंसी टेस्ट करवा कर किया जा सकता है। 

6 thoughts on “विवाहित लड़कियां प्रेग्नेंट कैसे हो सकती है : ladki pregnant kaise ho sakti hai”

  1. Simply desire to say your article is as surprising. The clearness in your post is simply excellent and i could assume you are an expert on this subject. Fine with your permission let me to grab your feed to keep up to date with forthcoming post. Thanks a million and please carry on the gratifying work.

    Reply

Leave a Comment